गठिया के दर्द के लक्षण, परहेज और घरेलु उपचार- Homeopathic & Ayurvedic Treatment of Arthritis/Rheumatism

0
46

गठिया (Arthritis) का दर्द एक आम समस्या हो गई है। गठिया का दर्द बहुत  तेज़ होता है जो उठने- बैठने ,चलने -फिरने में तकलीफ देता है। गठिया के रोग में दर्द के साथ -साथ सूजन भी आ जाती है।यह दर्द सर्दी के मौसम में ज्यादा परेशान करता है यह आयुर्वेदिक जड़ी -बूटी से बिलकुल सही हो जाता है।इस रोग में खान -पान का विशेस ध्यान रखना पड़ता है।

गठिया के लक्षण– Symptoms of Arthritis

गठिया के रोग में दर्द बहुत होता है।इस रोग के तीन अवस्थाएं  होती है। इस रोग के शुरुआत में परेसानी थोड़ी कम होती है पर पर जैसे- जैसे इसकी दूसरे अवस्था बढ़ती है तो  इसमें दर्द भी ज्यादा होने लगता है और लास्ट में यह इतना असहनीय हो जाता है की चीख निकलने लगती है।

  1. बुखार आना
  2. मांसपेशियों में दर्द होना
  3. शरीर में टूटन रहना
  4. हाथ-पैरों में अकड़न होना दर्द को  नार्मल होने में  15-20 मिनट लगती हैं।
  5. शरीर के जोड़ों में इतना दर्द होता है  की हिलाने पर चीख निकलती  है।
  6. शरीर गर्म रहना
  7. सूजन आना

गठिया में क्या खाएं– Do not Eat In Arthritic?

ब्रिटिन के रिसर्च  के मुताबिक गठिया (Arthritis) में अधिक बसा का भोजन न करें इसके करने से सूजन बढ़ जाती है और जोड़ों में भी दर्द होता है।

  • रेड मीट (No Red Meat)

इसमें एरेकिडोनिक एसिड अधिक मात्रा में होता है जिससे सूजन बढ़ने का खतरा रहता है।मछली का सेवन भी न करें इसमें प्यूरिन नामक एसिड होता है जो यूरिक एसिड बढ़ाता है।

  • तलाभुना खाना (No Fried Food)

इस रोग में तला -भुना ,चटपटा और ऑयली  खाना नहीं खाना चाहिए।

  • शराब तम्बाकू (No Alchoho and Tombacco)

शराब और तम्बाकू का सेवन कभी भी नहीं करना चाहिए ये स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होता है ।

  • कम नमक खाएं (Low Salt)

गठिया के रोग में नमक कम ही खाना चाहिए ज्यादा नमक खाने से सूजन बढ़ती है और दर्द भी।

  • खट्टे फल खाएं (No Citrus Fruits)

गठिया के रोग में खट्टे फलों का सेवन नहीं करना चाहिए इनमें विटामिन- सी अधिक मात्रा में होती है जो दर्द और सूजन को बढ़ाने का काम करते है।

गठिया के रोग में क्या खाएं– What to eat in Arthritis?

गठिया का दर्द हमारे जोड़ों में होता है इसलिए हमें अधिक मात्रा में विटामिन डी युक्त भोजन करना चाहिए।

  • ब्रोकोली

ब्रोकोली गठिया के दर्द में  दबा का काम  करती है यह एक पौष्टिक  सब्जी है।यह शरीर से विषैले पदार्थों को बहार निकालती है।

  • जैतून का तेल

जैतून के तेल को भोजन में स्तेमाल करने से शरीर को जरूरी पोषक तत्व मिलते है जैतून का तेल शरीर के लिए बहुत ही गुणकारी है।

  • विटामिनडी

विटामिन डी की कमी होने से ही  हड्डियां कमजोर होती है।विटामिन डी हमें सूर्य की प्रकाश से भी मिलता है इसलिए हमें कुछ समय की लिए धूप भी सेकनी चाहिए।

गठिया एक ऐसा रोग है जिसे आयुर्वेदिक उपचार और घरेलु उपायों से जड़ से ख़त्म किया जा सकता है।गठिया के रोगी को कुछ समय के लिए धुप   भी सेकनी  चाहिए इस रोग में शरीर को जितनी गर्मी मिलेगी रोग उतनी ही जल्दी ठीक भी होगा

गठिया के दर्द का आयुर्वेदिक इलाज– Ayurvedic Treatment of Arthritis Pain

गठिया एक ऐसा रोग है  जिसका दर्द जोड़ों में होता है इसका दर्द जब भी होता है बहुत ही जोर से होता है।पर  आयुर्वेदिक दबाइयों से इसे जड़ से ख़त्म किया जा सकता है।

  • अदरक से

अदरक गठिया के दर्द में बहुत ही अच्छा  काम करता है।यह गठिया होने से रोकता है और सूजन भी कम करता है।अदरक खाने से प्रतिरक्षा प्रणाली बढ़ती है

  • शल्लकी

शल्लकी गठिया के रोग में बहुत ही कारगर जड़ी – बूटी है।इसके सेवन से सूजन कम होती है। यह स्पॉन्डिलाइटिस और अन्य दर्द से भी आराम दिलाते है।

  • निर्गुडी

ये जड़ी -बूटी  सर दर्द , सूजन, गठिया ,और जलन में प्रयोग की जाती है।इसके प्रयोग से गठिया को जड़ से ख़त्म किया जा सकता है।

  • नील गिरी

इसके तेल का अर्क गठिया की दर्द और सूजन को ख़त्म करता है इसके पत्तों में टेनिन होता है जो सूजन और दर्द को ख़त्म करने का कम करता है ।

  • अजवाइन

अजवाइन गठिया की दर्द को ख़त्म करता है इसमें पोषक तत्व होते है।जो सूजन को ख़त्म काने का कम करते है।अजवाइन एंटीबायोटिक का काम करता है इससे गठिया के दर्द में जल्दी आराम मिलता है।

Facebook Comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here