लौंग ( Clove ) के तेल के फायदे और नुकसान- जानिए हिंदी में

0
23

लौंग का तेल औषधीय गुणों से भरपूर होता है। लौंग के तेल में एंटीबैक्टीरियल, एंटीसेप्टिक और एंटीवायरल गुण उपस्थित होते हैं। इसे अंग्रेजी में Clove व लेटिन भाषा में क्लेवस (Clove) कहते हैं। इसका प्रयोग रसोई घरों में मसालों के रूप में भी किया जाता है। लौंग में कैल्शियम, हाइड्रोक्लोरिक एसिड, आयरन, फॉस्फोरस, सोडियम, पोटेशियम तथा विटामिन C और विटामिन A उपस्थित होते हैं। लौंग के तेल का प्रयोग दर्द निवारक के रूप में भी किया जाता है।

लौंग के तेल के फायदे

लौंग के तेल में एन्टीमीक्रोवियल, एंटीसेप्टिक तथा एंटीवायरल गुण उपस्थित होते हैं। लौंग के तेल का प्रयोग दाँत दर्द, सिरदर्द, खाँसी तथा अस्थमा जैसे रोगों को दूर करने में किया जाता है।

  1. कान दर्द में

कान के दर्द में लौंग का तेल औषधी के रूप में काम करता है। लौंग के तेल तथा तिल के तेल को गुनगुना करके कान में डालने से दर्द जल्दी बंद हो जाता है।

  2सिरदर्द में

लौंग के तेल में कई फ्लेवोनॉइड होते हैं, जो एंटीइंफ्लेमेटरी एजेंट होते हैं। जो सूजन को कम करते हैं, तथा दर्द को कम करने में सहायक होते हैं। लौंग के तेल से शरीर के अन्य हिस्सों जैसे मांशपेशियों तथा जोड़ों पर मालिश करने से दर्द में जल्दी आराम मिलता है।

  3त्वचा के लिए

त्वचा की देखभाल में लौंग का तेल बहुत उपयोगी होता है। लौंग के तेल के प्रयोग से मुहांसों की समस्या ख़त्म हो जाती है।

  4दाँत के दर्द में

दन्त चिकित्सा में लौंग के तेल का प्रयोग किया जाता है। इसमें यूजेनॉल कम्पाउंड होते हैं, जिसका प्रयोग दाँतों के रोग में सालों से किया जा रहा है। कैविटी होने पर लौंग के तेल को कॉटन पर रखकर कैविटी वाले दाँतों पर लगाने से दर्द में जल्दी आराम मिलता है।

  5प्रतिरक्षा प्रणाली बढ़ाने में

लौंग के तेल में उपस्थित एंटीऑक्सीडेंट गुण शरीर से हानिकारक कणों को बाहर निकालते है, जो हृदय रोग तथा कैंसर जैसे खतरनाक रोगों का कारण बनते है।

  6ब्लड शुगर में

लौंग के तेल का प्रयोग ब्लड में शुगर के लेवल को कम करने में मदद करता है।

  7अपच और मतली में आरामदायक

लौंग के तेल का प्रयोग पेट सम्बन्धी समस्याओं को दूर करने में किया जाता है। यह अपच, हिचकी तथा पेट की अन्य समस्याओं को दूर करता है। इसका प्रयोग भारतीय व्यंजनों में मसाले के रूप में किया जाता है। लौंग का तेल मितली तथा अपच की समस्या को दूर करता है। इसका प्रयोग पानी के साथ 1-2 बून्द ही करना चाहिए।

लौंग के तेल के नुकसान

लौंग का तेल फायदे के साथ कभी-कभी नुकसानदायक भी होता है।

  • ब्लड शुगर से पीड़ित व्यक्तियों को इसके प्रयोग से बचना चाहिए। ब्लड शुगर के मरीज को डॉक्टरी परामर्श से ही इसका प्रयोग करना चाहिए।
  • यदि किसी व्यक्ति को किसी भी प्रकार की एलर्जी है, तो उसे इसका प्रयोग नहीं करना चाहिए।
  • अधिक मात्रा में लौंग के तेल का प्रयोग दुष्प्रभाव पैदा करता है, इन दुष्प्रभावों में उल्टी, मतली तथा बेहोशी जैसी अन्य समस्याएं शामिल है।
  • लौंग के तेल की तासीर गर्म होती है, इसलिए स्तनपान कराने वाली महिलाओं तथा गर्भवती महिलाओं को इसके प्रयोग से बचना चाहिए।
Facebook Comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here