OxyHives Reviews: पित्ती (Urticaria) का रामबाण उपचार हिंदी में

0
78

इसे शीतपित्त या हीव्स (Urticaria/Hives) के नाम से भी जाना जाता है। जब शरीर में पित्त की मात्रा अधिक हो जाती है या किसी कारण से शरीर में पित्त बढ़ जाता है। तो इससे होने वाली समस्या को पित्ती” कहते हैं। पित्त से उत्पन्न विकार गर्मी के रूप में शरीर से बाहर निकलते हैं। जिससे शरीर पर लाल रंग के चकत्ते उभर आते हैं। वैसे तो यह कोई बड़ी समस्या नहीं है, लेकिन सही समय पर उपचार न होने से शरीर के दूषित द्रव जिसकी गर्मी के कारण यह समस्या उत्पन्न होती है, वे बाहर नहीं निकल पाते हैं।

पित्ती के प्रकार (Types of Hives)

पित्ती आमतौर पर दो प्रकार की होती है।

  1. तीव्र पित्ती – इसमें एलर्जी का रिएक्शन 6 हफ्ते या उससे कम समय रहता है।
  2. दीर्घ कालीन पित्ती – इसमें एलर्जी का रिएक्शन 6 हफ्ते या उससे अधिक समय रहता है।

पित्ती के लक्षण (Symptomes of Hives)

आमतौर पर शरीर पर पित्ती होने पर लाल रंग के चकत्ते बनते हैं, और खुजली होती है।

  • मतली व् उल्टी होना
  • मुंह, होठ, जीभ, तथा गले की त्वचा पर सूजन का आना
  • चक्कर आना
  • दिल की धड़कने बढ़ना

पित्ती होने के कारण (Cause of Hives)

अभी तक पित्ती होने का कोई मुख्य कारण पता नहीं चल सका है, लेकिन कुछ अन्य बजह है जिनके कारण यह परेशानी होती है।

  1. शरीर पर किसी एलर्जी रिएक्शन के कारण पित्ती का उठना
  2. किसी कीट के काटने या छूने से पित्ती का होना
  3. धूप, गर्मी, ठंडा,आदि के संपर्क में आने से पित्ती का उठना
  4. किसी दबा के रिएक्शन के कारण पित्ती का उठना
  5. सूरज की रोशनी के कारण पित्ती का उठना
  6. किसी विशेष खाद्य पदार्थ के सेवन से पित्ती का उठना

पित्ती का उपचार (Hives Treatment)

पित्ती के रोग को होम्योपैथिक उपचार के द्वारा पूरी तरह से ठीक किया जा सकता है। ऐलोपैथिक दवाओं के द्वारा इस रोग को सिर्फ दबाया जा सकता है। परन्तु पूरी तरह से ठीक नहीं किया जा सकता। लेकिन होम्योपैथिक दबाओं के द्वारा इस रोग को पूरी तरह से ख़त्म किया जा सकता है। इस रोग को ठीक करने के लिए एक होम्योपैथिक दबा OxyHives उपलब्ध है। यह दबा पूर्ण रूप से सुरक्षित है , यह पूर्ण रूप से प्राकृतिक और होम्योपैथिक दबा है। OxyHives  के पित्ती के उपचार में बहुत ही अच्छे परिणाम हैं। इस दबा को पित्ती पर Externaly Apply कर सकते हैं। इस दबा की ३ बून्द सीधे जीभ पर दिन में तीन बार लें।

OxyHives मे उपयोग होने वाले घटक (OxyHives Ingredients)

  • Apis Mellifica  २०० CH
  • Arnica  Montana  6X
  • Hepar Svis 6X
  • Ichthyolum 6X
  • Lachesis 30 CH
  • Mercurius Solubilis 200CH
  • Rhus Tox 200 CH
  • Urtica Urens 200CH
Facebook Comments