क्या है मधुमेह (डाइबिटीज़) के लक्षण, कारण और इसके घरेलु एवं आयुर्वेदिक उपचार- Diabetes Symptoms, Cause & Ayurvedic Treatment

0
30

आज के समय में १०० में से १० व्यक्ति डाइबिटीज़ (मधुमेह) से  पीड़ित  हैं। लेकिन हम यह नहीं जान पाते  हैं की मधुमेह (डाइबिटीज़/Diabetes) क्या है और यह कैसे हो जाती है।

मधुमेह (डाइबिटीज़/Diabetes) क्या है?

ये हम सभी जानते हैं के जब रक्त में शुगर की  मात्रा बढ़ जाती है तो मधुमेह (डाइबिटीज़/Diabetes) हो  जाती है। तब हमारे दिमाग में सिर्फ एक ही बात आती है की ज्यादा मिठाई खाने की बजह से ही डाइबिटीज़ बढ़ती है।परन्तु ऐसा हम नही कह सकते क्यूकी कभी- कभी व्यक्ति बहुत अधिक मिठाई खाता है फिर  भी उसे यह बीमारी नहीं होती है।

मधुमेह (डाइबिटीज़/Diabetes) कैसे होती है?

हमारे शरीर में एक पार्ट है जिसका नाम है अग्न्याशय (Pancrease)। जब अग्न्याशय में इन्सुलिन (Insulin) कम पहुंचता है तब हमारे रक्त में ग्लूकोज (Glucose) की मात्रा बढ़ जाती है।इस स्थिति  को डाइबिटीज़ कहते हैं।इन्सुलिन एक हार्मोन होता है जो की पाचन ग्रंथी से निकलता है।इसका कार्य हमारे शरीर के अंदर भोजन को एनर्जी में बदलने का होता है।इन्सुलिन ही हमारे शरीर में शुगर को कण्ट्रोल रखता है।जब व्यक्ति को डाइबिटीज़ हो जाती है तब हमारे शरीर को भोजन से एनर्जी नहीं मिलती है।और शरीर में बड़ा हुआ ग्लूकोस हमारे शरीर में विभिन्न अंगों को नुकसान पहुंचाता है।

मधुमेह (डाइबिटीज़/Diabetes) के लक्षण

  1. ज्यादा प्यास लगना
  2. बार -बार  पेशाब  जाना
  3. आँखों की रोशनी का कम होना
  4. चोट या जख्म का देरी से भरना
  5. हाथ पैरों और गुप्तांगों पर खुजली बाले जख्म
  6. चक्कर आना
  7. चिड़चिड़ापन रहना

मधुमेह से बचाव की आयुर्वेदिक और घरेलू उपाय

जब व्यक्ति को मधुमेह (डाइबिटीज़/Diabetes) हो जाती है तो वह सीधे डॉक्टर के पास जाता है।और डॉक्टर उसे दबा दे देते है और यह दबा उसे जिंदगी भर खानी पड़ती है।जब दबा से  भी डाइबिटीज़ कण्ट्रोल नहीं होती है तो डॉक्टर उसे इंसुलिन के इंजक्शन लेने के लिए कह देता है।इन्सुलिन से डाइबिटीज़ कण्ट्रोल में तो रहती है पर ख़त्म नहीं  होती है।

डाइबिटीज़ को नियंत्रण व् सही करने के लिए कुछ घरेलू नुस्खे हैं जिनसे डाइबिटीज़ को नियंत्रण किया जा सकता है और ख़त्म भी किया जा सकता है।

१. आंवला (Gooseberry)

आंवले के रस या सूखे आंवले के चूर्ण में हल्दी मिलाकर सेवन करने से डाइबिटीज़ में जल्दी आराम मिलता है।

२. जामुन (Blackcurrant)

डाइबिटीज़ को खत्म करने में जामुन का बहुत  बड़ा  महत्व  है।डाइबिटीज़ के मरीज को अधिक मात्रा में जामुन को खाना चाहिए।और जामुन की गुठली को सुखाकर  उसका चूर्ण बना कर दिन में २-३ बार १/२ चम्मच  चूर्ण को पानी के साथ लेने से डाइबिटीज़ कण्ट्रोल रहती है और निरंतर इस चूर्ण का सेवन करने से डाइबिटीज़ ख़त्म हो जाती है।

३. करेला (Bitter Gourd)

जिस व्यक्ति को मधुमेह (डाइबिटीज़/Diabetes) है उस व्यक्ति को दिन में कम से कम एक गिलास करेले का जूस अवश्य पीना चाहिए।इस बात का विशेष ध्यान रहे की करेला देसी  होना चाहिए।डाइबिटीज़ बाले व्यक्ति करेले को एक तरह से और प्रयोग में ला सकते हैं।२ करेले लेकर उनको साफ़ फर्श पर रखें और उन दोनों करेलों को पैरों से गूंथें और जब तक गूथना चाहिए जबतक की आपका मुंह कड़वा न हो जाये।इस विधि को दिन में एक बार करें और कुछ दिनों तक लगातार करने से व्यक्ति की डाइबिटीज़ बिलकुल ख़त्म हो जाती है।

४. मेथी (Fenugreek)

रात को सोने से पहले एक चम्मच मेथी को पानी में भीगा दें और सुबह इसका सेवन करें यह प्रक्रिया कुछ दिनों तक लगातार करने से डाइबिटीज़ बिल्कुल ख़त्म हो जाती है।

५. बादाम (Almond)

जिस व्यक्ति को डाइबिटीज़ है वह रात को अपने तकिये की नीचे २ बादाम रखे और सुबह खाली पेट दोनों बादामों को अच्छे से चबाकर खाये।तो इस प्रयोग से डाइबिटीज़ को कुछ ही दिनों में जड़ से ख़त्म किया जा सकता है।

६. घूमने से (Walk)

मधुमेह बाले व्यक्ति को सुबह -सुबह कम से कम 4 -5  km घूमना चाहिए।इससे डीबीटीएस कण्ट्रोल में रहती है।

Facebook Comments