सफेद दाग या ल्यूकोडर्मा के लक्षण, कारण और घरेलू व आयुर्वेदिक इलाज़- Cause, Symptoms & Ayurevedic Treatment of Vitiligo/Leukoderma

0
42

सफेद दाग (Leukoderma/ल्यूकोडर्मा) ऐसी  बीमारी है जो स्त्री, पुरुष या बच्चा किसी को भी हो सकती है। इन दागों को मनुष्य कितना भी छिपाने के कोशिश करे पर ये छिप नही पाते है।बल्कि और बढ़ते ही जाते है।ये शरीर के किसी भी हिस्से में हो सकते है इन दागों के शुरू होने पर त्वचा का प्राकृतिक  रंग बदल जाता है।और सफेदी आ जाती है। सफेदी के कारण इसे शिवत्र भी कहते है यह रोग संक्रामक नही होता है और न ही इसके होने पर कोई पीड़ा होती है।

सफेद दाग होने के कारण –

त्वचा पर सफेद दाग होने का प्रमुख कारण त्वचा में मेलानोसाइट्स सेल्स (Melanocytes Cells) द्वारा उत्पादित मेलेनिन (Melanin) की कमी के कारण होता है।

  1. सफेद दाग पैतृक या वंशानुगत भी होते है।
  2. पेट में उपस्थित बारीक कीड़ों की कारण भी सफेद दाग होते है।
  3. अधपका खाना (Half Cooked Food) खाने से भी सफेद दाग होने की  संभावना होती है।या पहले का भोजन पचे बिना ही और भोजन करने से भी ये संभावना बढ़ती है।

सफ़ेद  दाग के लक्षण

यह एक ऐसा रोग है जिसमें कोई दर्द या जलन नहीं होती है।  इसलिए इस रोग को पहचानने में थोड़ा समय लगता है इसके शुरुआत में त्वचा का रंग फीका पड जाता है।

  1. शुरुआती  लक्षण में त्वचा का रंग फीका पड़ने लगता है।उस जगह के बाल भी सफ़ेद होने लगते है।
  2. यदि शरीर पर सफेद दाग (Leukoderma/ल्यूकोडर्मा) हो गए है और कहीं चोट भी लग गयी है।तो चोट बाली  जगहपर भी सफ़ेद निशान उभर आता है।जिससे समझ  लेना चाहिए की ये रोग हमारे शरीर पर तेज़ी से फैल रहा है।
  3. इस रोग में किसी भी तरह का दर्द या पीड़ा नही होती है। और न ही ये ऐसा रोग है जिसे ठीक न किया जा सके आयुर्वेदिक दबाइयों से इसे पूरी तरह ठीक किया जा सकता है।

सफेद दाग दूर करने के घरेलू उपाय

 सफ़ेद दाग एक ऐसा रोग है जिसे आयुर्वेदिक दबाइयों और घरेलु नुस्खों से सही किया जा सकता है।

– एलोवेरा

एलोवेरा त्वचा के लिए बहुत ही फायदेमंद है। एलोवेरा में कुछ ऐसे प्रोटीयोलाइटिक एंजाइम होती हैं जो स्कैल्प पर मृत त्वचा कोशिकाओं की मरम्मत करते है।इसमें मौजूद पोषक तत्व सफ़ेद दाग (Vitiligo) को दूर करने में मदद करते है।एलोवेरा जैल को दाग वाली  जगह पर लगाने से सफेद दाग दूर होती हैं।

– हल्दी (Turmeric)

एक चम्मच हल्दी पाउडर को एक गिलास गुनगुने दूध में डालकर दिन में दो बार पीने से ये रोग जल्दी ठीक होता है।

– सरसों का तेल (Mustard Oil)

दो चम्मच सरसों के तेल में एक  चम्मच हल्दी मिलाकर पेस्ट बना लें और सफ़ेद दागों पर लगाएं 15 मिनट बाद चेहरे को साफ पानी से धो दें यह प्रक्रिया 3 -4 महीने तक लगातार करने से सफेद दाग दूर हो जाते हैं।

– नीम से (Azadirachta Indica or Neem Tree)

नीम किसी भी प्रकार की स्किन प्रॉब्लम के लिए फायदेमंद होता है।यह स्किन पिगमेंटेशन को रिस्टोर करने में भी मदद करता है। 8 -10 पिसी हुए नीम की पत्तियों को दही में मिलाकर पेस्ट बना लें और दागों पर लगाएं सूखने पर इसे साफ पानी से धो लें यह प्रक्रिया 2 -3 महीने तक लगातार करें इससे सफेद दाग दूर हो जायेंगे।

– नारियल की तेल से (Coconut Oil)

हल्के सफ़ेद दागों पर नारियल के तेल में नीम का तेल मिलाकर लगाने से दाग दूर हो जाते हैं।

सफ़ेद दाग होने पर क्या परहेज़ करें?

  1. सफ़ेद दागों में सबसे ज्यादा परहेज खटाई का और तीखे, चटपटे खाने का होता है।
  2. सफेद दाग (Leukoderma/ल्यूकोडर्मा) होने व पर करेला ज्यादा खाना चाहिए।
  3. हरी सब्जी और दाल का खूब सेवन करें।
  4. मांस, मछली के साथ दूध का सेवन करने से बचें इसके सेवन से सफ़ेद दाग और फैलता है।

सफ़ेद दाग की आयुर्वेदिक दवाएं

सफ़ेद दाग की आयुर्वेदिक दवाइयाँ निम्न प्रकार है पर इन दवाओं के सेवन से पहले डॉक्टरी परामर्श अवश्य लें।

  • पतंजलि कायाकल्प लेप
  • दिव्या बकुची चूर्ण
  • दिव्य गिलोय सत
Facebook Comments

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here